Saturday, April 18, 2009

कमाल की कला..........फ़ूड आर्ट!

मेरी किसी मित्र ने मुझे यह तस्वीरें मेल की हैं। आप भी देखिये। हैं न कमाल। पता नहीं इन्हें बनाने वाला कलाकार कौन है, पर वो बधाई का पात्र जरूर है।

















16 comments:

Anonymous said...

सचमुच कमाल की कला...

sareetha said...

लाजवाब ।

Arvind Mishra said...

Vaah !

venus kesari said...

सभी वालपेपर एक से बढ़ कर एक जबरदस्त

वीनस केसरी

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बेजोड़ कलाकारी की शानदार मिसाल।
कला में कमाल भी है,
जमाल भी है और उन हाथों को सलाम भी है।

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

कला कमाल की है, पर यही बात उस मनुष्य से पूछी जाए जिसे एक जून भी ठीक से भोजन न मिलता हो तो वह इसे बरबादी कहेगा।

लवली कुमारी / Lovely kumari said...

सुन्दर कलाकारी.

रश्मि प्रभा said...

कमाल की कलाकृति

poemsnpuja said...

vaakai kamaal ki tasveerein hain. behad khoobsoorat, post karne ke liye shukriya

महामंत्री - तस्लीम said...

अदभुत, लाजवाब।

-----------
खुशियों का विज्ञान-3
एक साइंटिस्‍ट का दुखद अंत

JHAROKHA said...

Shikha ji,
vakyee ...baht sundar sajaya gaya hai....
Poonam

रावेंद्रकुमार रवि said...

नए ढंग की आकर्षक कलाकारी के दर्शन कराने के लिए आभार!

Anonymous said...

सुंदर। मनभावन। आनंद आया।

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

कमाल की कला!एक से बढ़ कर एक !शानदार!

पुनीता said...

मैं तो चमत्कृत हो गई। हर बार मॉउस नीचे सरकता गया और अदभुत अदभुत जैसे शब्द मन से निकलता गया।
बिल्कुल से अवर्णनीय है।
पुनीता

Meenu Khare said...

लाजवाब ।