Thursday, April 16, 2009

कहानी........औरत

यह कहानी एक औरत की है............औरत............एक ऐसी औरत जो सभी घटनाओं का केन्द्र थी फ़िर भी उसका महत्त्व किसी ने नहीं समझा और जब समझा तब बहुत देर हो चुकी थी

वो
औरत................एक व्यापारी के घर पैदा हुई...........कन्या रत्न की प्राप्ति घाटे में डूबे पिता के घर में...........जन्म से ही उपेक्षित रहीपिता ने तो कई दिनों तक उसका मुंह ही नहीं देखापर जब धीरे धीरे हालत सुधरी सफलताएं मिलने लगीं तो माँ बेटी के भाग्य को श्रेय देने लगी उसको सराहने लगी.........पिता के दिल में भी कुछ संवेदनाएं जागने लगीं........पर अंहकार ज्यादा बलवान था...........जिस बेटी को सदा अपनी असफलताओं का कारण साबित किया उससे सदा दूरी ही बनाए रखी.........जाने किस बात का आक्रोश था जो बेटी से दो मीठे बोल भी बोलने देतासारा प्यार सालों छोटे भाई के हिस्से में आयाबहन के प्रति व्यवहार में पिता के विचारों की ही छवि रही.............भाई के प्रेम को भी तरसती रही


फ़िर
एक दिन एक सजीला द्वार पर आया..........रीति रिवाजों में बाँधकर अपने घर ले गया...............पहली बार पिता ने खालीपन महसूस किया..........पर देर हो चुकी थी.........अब तो वो परायी हो गयी थी...........भरे पूरे परिवार की बड़ी बहू बन ढेरों जिम्मेदारियों के बोझ तले फ़िर कभी मायके की लाडली बेटी बन कर सकी...........जब भी आयी पीछे पीछे वापसी का बुलावा आजाताएक दिन अचानक पिता का देहांत हो गयामायके आयी तो माँ ने बताया कि उसके जाने के बाद पिता उसकी कमी महसूस करतेरहे..........अन्तिम समय में उसके प्रति अपने व्यवहार पर बहुत पछताए.................उसकी आँखें भर आयीं दिल ने कहा..............काश ऐसा पहले हो गया होता


समय
चक्र चलता रहामाँ भी चली गईभाई ने कभी मधुर सम्बन्ध रखे ही नहींमायके से रिश्ता बस रीति रिवाजों भर का रहापर जब पता चला भाई व्यापार में सब खो चुका है तो माँ से मिली सारी विरासत भाई को दे आयी.............विदेश जाकर एक नई शुरुआत करने को..............भाई ने पहली बार बहन को समझा...........पहली बार जाना कि वो माँ का ही प्रतिरूप है............दिल में प्यार जागा पर फ़िर से देर हो गईभाई पर इस तरह धन लुटाने से पति नाराज हो गए..........मायके से सारे रिश्ते तुड़वा दिए............विदेश जाने से पहले भाई मिलने आया तो द्वार से ही लौटा दिया गया..........उसकी आँखें फ़िर भर आयीं........दिल ने फ़िर कहा काश ऐसा पहले हो गया होतादिल पर पत्थर रख जीती रही औरों के लिए


पति
की नाराजगी जो शुरू हुई तो कभी ख़त्म हो सकीपत्नी की उपेक्षा कर काम में डूबे रहे............घर से ज्यादा समय बाहर बिताते........छोटी छोटी गलती पर भी उसे बुरी तरह लताड़ देतेइकलौता बेटा रईसी के अवगुणों से तो बचा रहा पर उसमें भी माँ के प्रति कभी सह्रदयता नहीं दिखी............एक अजीब सा परायापन पनपता रहाशायद पिता के व्यवहार ने माँ के प्रति उसका नजरिया ही बदल दिया था.........वह विदेश चला गयापीछे पति को जानलेवा बीमारी ने घेर लिया...........रोगशय्या पर कोई मित्र काम आयाउसने जीजान से पति की सेवा करी............पति ने उस औरत में बसी अपनी पत्नी को बरसों बाद पहचाना.............पर पुनः देर हो गई...........संबंधों से सुंदर रूप लेना शुरू भी किया था की म्रत्यु का देवता उसके पति को ले गयाजाते जाते पति ने उसके सर पर प्रेमपूर्वक हाथ रखा...........उसकी आँखें भर आयी दिल ने फ़िर कहा...........काश ऐसा पहले हो गया होतापिता की म्रत्यु का समाचार सुन बेटा आया...........सभी रीति रिवाज पूरे किए पर माँ से कटा कटा ही रहा.............पिता के प्रति अपने सारे धर्म निभा कर वापस चला गयामाँ की पीड़ा को समझे बिना........बांटे बिना..........एक बार मुड़ कर भी नहीं देखा...........अपनी नई दुनिया बसा ली.........उसी में खो गया


एक
औरत की जीवटता कब तक साथ देतीआघातों पर अघात सहते सहते मन के साथ तन भी टूटने लगारोगों से घिर कर बिस्तर पकड़ लिया। बेटे को फुर्सत मिली माँ के पास आने की.............शायद दिल ही कियाअपने काम के सिलसिले में दूसरे देश जाते समय एअरपोर्ट पर मामा मिलेउनसे पता चला की माँ आखिरी साँसें ले रही है.............उसको देखने के लिए ही तरस रहीहै.............मामा से माँ की जीवन कथा सुनी तो बेटे की ऑंखें खुलीं............ .माँ का वो पहलू दिखा जिस पर उसकी उपेक्षा ने परदा डाल रखा थातुंरत ही माँ से मिलने भागा.............जब पहुँचा तो माँ चिता के रथ पर सवार हो चुकी थीबेटा सर थाम कर बैठ गया............आँखों से पछतावे के आँसू बह चले...............असहाय सा चिता की अग्नि को देखता रहा...............और उसकी आत्मा कराह रही थी कि काश ऐसा पहले हो गया होता







18 comments:

अनिल कान्त : said...

is aurat ki kahni ko kya kahun ...bas dil se nikalta hai ki har maa, bahan , bahu ke sath kyun hota hai aisa ....kab samjhenge ....duniyadari ko nibhane wale log

mehek said...

na jaane aur kitani sadiyaa ye kahani chalti rahegi.gazab ka sunder flow hai katha mein.bandh ke rakhta hai pathak ko.bahut badhai.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

"कहानी........औरत"
शिखा दीपक जी!
"कहानी........औरत"
जैसी मर्मस्पर्शी कथा को ब्लाग पर लिखने के लिए आप बधाई की पात्रा हैं।

PD said...

aisa aksar hota hai.. jab tak hame kisi ki ahmiyat ka pata chalta hai, samay beet chuka hota hai..

Science Bloggers Association said...

जिन्दगी को करीब से दिखाती कहानी है, बधाई।
बिन मांगे एक सुझाव, कहानी को छोटे छोटे पैराग्राफ में बाँट दें, तो पढने में सुविधा होगी।
----------
जादू की छड़ी चाहिए?
नाज्का रेखाएँ कौन सी बला हैं?

डॉ .अनुराग said...

तहजीब के लबादे में छिपी औरत ....अब भी वही बैठी है ...

Ravi Srivastava said...

नमस्कार!
आज मुझे आप का ब्लॉग देखने का सुअवसर मिला।
वाकई आपने बहुत अच्छा लिखा है। आप की रचनाएँ, स्टाइल अन्य सबसे थोड़ा हट के है....आप का ब्लॉग पढ़कर ऐसा मुझे लगा. आशा है आपकी कलम इसी तरह चलती रहेगी और हमें अच्छी -अच्छी रचनाएं पढ़ने को मिलेंगे. बधाई स्वीकारें।

आप मेरे ब्लॉग पर आए और एक उत्साहवर्द्धक कमेन्ट दिया, शुक्रिया.

आप के अमूल्य सुझावों और टिप्पणियों का 'मेरी पत्रिका' में स्वागत है...

Link : www.meripatrika.co.cc

…Ravi Srivastava
E-mail: ravibhuvns@gmail.com

रंजना [रंजू भाटिया] said...

औरत एक कहानी में बदल जाती है ,एक सच लिखा है जो बहुत तरक्की के बाद भी अब तक सच ही है ..बेहतरीन लगी यह .

JHAROKHA said...

शिखा जी,
बहुत मार्मिक भावनात्मक कहानी है ....कहानी प्रवाहमय भाषा में लिखी है आपने..बधाई .बस थोडा सा और विस्तार दिया होता आपने तो और अधि प्रभावशाली बन जाती .
पूनम

रश्मि प्रभा said...

maun aansu hi tippani hain.....

paricharcha said...

कौन सुनेगा यही सोच कर, अपने मन की छोड़ न कहना.
कहीं किसी को लगे बुरा ना, यह सोच कर अब छोड़ दे सहना.

--कौतुक

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण रचना!
आप का ब्लाग बहुत अच्छा लगा।
मैं अपने तीनों ब्लाग पर हर रविवार को
ग़ज़ल,गीत डालता हूँ,जरूर देखें।मुझे पूरा यकीन
है कि आप को ये पसंद आयेंगे।

गर्दूं-गाफिल said...

सम्वेदना जागरण में समर्थ कहानी
कलम को बधाई

neera said...

कहानी पढ़ कर याद आ गई निराला की पंक्तियाँ
आह नारी जीवन तेरी यही कहानी
आँचल में है दूध आँखों में पानी..

सारिका सक्सेना said...

आज पहली बार तुम्हारा ब्लाग देखा। पता ही नहीं था कि तुम्हारे अंदर इतनी अच्छी लेखिका छुपी हुई है। यूं ही लिखती रहो। बहुत अच्छा लगा तुम्हारी इस प्रतिभा से परिचय पाकर।
--सारिका

raju said...

hame bahut hi achha laga..

raju said...

Hame ye khani achhi lagi...
par is duniya sabhi insaan aise nahi hote...
yadi har samay aisa hota to aaj ye parivartan dekhne ko nahi milta..
Aaj naari har kshetra me aage hai...

dev said...

Shikha, Her taraf her jagah beshumaar aadmi. Phior bhee tanhaaeyo ka shikaar aadmi.

Likho or likho, tab tak likho jab tak sona aag mai tap kar khara na ho jaaye.